Kabir ke Dohe with meaning in Hindi and English

 

Sant Kabir Das ke Dohe

 

Sant Kabirdas was a weaver by proffession and acted as teacher and a social reformer by the medium of his writings. Sant Kabir ke dohe are full of meaning and teachings. He believed God is one and people just worship Him with different names.

Below are some of his famous couplets with their meaning.

बडा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंथी को छाया नही फल लागे अति दूर ॥

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं, कि सिर्फ बड़े होने से कुछ नहीं होता. उदाहरण के लिए खजूर का पेड़, जो इतना बड़ा होता है पर ना तो किसी यात्री को धूप के समय छाया दे सकता है, ना ही उसके फल कोई आसानी से तोड़ के अपनी भूख मिटा सकता है .

Meaning in English

It is no use being very big or rich if you can not do any good to others. For example, Palm tree is also very tall, but it is of no use to a traveller as it provides no shade and the fruit is also at the top, so noone can eat easily.

 

साँई इतना दीजिए जामें कुटुंब समाय ।
मैं भी भूखा ना रहूँ साधु न भुखा जाय॥

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं, कि हे भगवान् मुझे ज्यादा नहीं चाहिए. बस इतना दीजिये,जिस में उसके परिवार का भरण-पोषण हो जाए. और यदि कोई अतिथि आये, तो उसका सत्कार भी कर सके.

Meaning in English

Kabir request God to give only as much so that he can feed his family and if any guest comes he should be able to feed him too. It means, you should only have what you need, no use having too much.

 

माटी कहे कुम्हार से, तु क्या रौंदे मोय ।
एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय ॥

Meaning in Hindi

मिटटी कुम्हार से कहती है कि आज तो तू मुझे पैरों के नीचे रोंद रहा है . पर एक दिन ऐसा आएगा जब तू मेरे नीचे होगा और मैं तेरे ऊपर होउंगी . अर्थात मृत्यु के बाद सब मिटटी के नीचे ही होते हैं .

Meaning in English

Soil tell the pot maker, you think you are kicking me and kneading me with your feet. There will be a day when you will be below me (after death) , I will knead you. 

 

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर ।
कर का मन का डार दे, मन का मनका फेर ॥

Meaning in Hindi

ये उन लोगों के ऊपर कटाक्ष है जो धर्मभीरु होते हैं. कबीर कहते हैं कि माला फेरने से कुछ नहीं होता. धर्मभीरुता छोड़ के अपने मन को बदल.

Meaning in English

This is sarcasm on people who follow religion blindly. Kabir says, you spent your life turning the beads of rosary, but could not turn your own heart. Leave the rosary and try and change the evil in your heart.

 

 

गुरु गोविंद दोनों खड़े, काके लागूं पाँय ।
बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो मिलाय ॥

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं की गुरु का स्थान ईश्वर से भी ऊपर है. यदि दोनों एक साथ खड़े हो तो किसे पहले प्रणाम करना चाहिए. किन्तु गुरु की शिक्षा के कारण ही भगवान् के दर्शन हुए हैं.

Meaning in English

Here Kabir says Teacher is even greater than God. He says, if teacher and God are both in front of me, who will I greet first. He then says, it is only because of teacher’s teaching that I am able to see God.

 

कबीरा खड़ा बाज़ार में, सबकी मांगे खैर.
ना काहू से दोस्ती, ना काहू से बैर.

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं की सबके बारे में भला सोचो . ना किसी से ज्यादा दोस्ती रखो और ना ही किसी से दुश्मनी रखो.

Meaning in English

Kabir says that you should always think well of everyone. Do not be over-friendly with anyone nor should you be hostile to anyone.

 

कहे कबीर कैसे निबाहे , केर बेर को संग
वह झूमत रस आपनी, उसके फाटत अंग .

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं कि भिन्न प्रकृति के लोग एक साथ नहीं रह सकते. जैसे केले और बेर का पेड़ साथ साथ नहीं लगा सकते. क्योंकि हवा से बेर का पेड़ हिलेगा और उसके काँटों से केले के पत्ते कट जायेंगे.

Meaning in English

Kabir says people of different nature can not live together. As if Banana and Ber trees are planted near each other, Ber tree will swing in air and banana tree leaves will get torn by it’s thorns.

 

पाथर पूजे हरि मिले , तो मैं पूजू पहाड़ .
घर की चाकी कोई ना पूजे, जाको पीस खाए संसार

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं कि यदि पत्थर कि मूर्ती कि पूजा करने से भगवान् मिल जाते तो मैं पहाड़ कि पूजा कर लेता हूँ .
उसकी जगह कोई घर की चक्की की पूजा कोई नहीं करता , जिसमे अन्न पीस कर लोग अपना पेट भरते हैं .

Meaning in English

Kabir says people worship idols made from stone. If it was possible to reach God this way, he would worship a Hill.

Instead, noone worships home flour mill (chakki) which gives us the flour to eat.

 

दुर्बल को न सताइये, जाकी मोटी हाय |
मरी खाल की सांस से, लोह भसम हो जाय ||

Meaning in Hindi

कबीर जी कहते हैं किसी को दुर्बल या कमज़ोर समझ कर उसको नहीं सताना चाहिए, क्योंकि दुर्बल की हाय या शाप बहुत प्रभावशाली होता है. जैसे मरे हुए जानवर की खाल को जलाने से लोहा तक पिघल जाता है.

Meaning in English

Kabir says that you should not oppress somebody weak thinking that person cannot do you any harm. Weak person’s curse can do you great harm just like hide from a dead animal can melt even iron.

 

तिनका कबहूँ न निंदिये जो पावन तर होए
कभू उडी अँखियाँ परे तो पीर घनेरी होए

Meaning in Hindi

कबीर कहते हैं कि किसी तिनके को पावों के नीचे नहीं रौंदना चाहिए अर्थात किसी दुर्बल, असहाय के ऊपर अत्याचार नहीं करना चाहिए क्योंकि जब दुर्बल उठ के वार करेगा तो बहुत पीड़ा  होगी, जैसे तिनका यदि आँख में उड़ के चला जाए तो बहुत व्यथा होती है.

Meaning in English

Kabir says that you should not oppress the weak, as you should not trample a speck because when that weak person counter-attacks , it will be very painful just like a speck of dust in eye can cause a lot of discomfort.

 

 


One Response to “Kabir ke Dohe with meaning in Hindi and English”

Leave a Reply

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>